NCERT Class 12 Political Science Question Paper – शीतयुद्ध का दौर

शीतयुद्ध का दौर

Chapter 1 शीत युद्ध का दौर: Cold War Era Political Science Class 12 Hindi Medium FREE NCERT Book Solution

विद्यार्थियों हम आपके लिए राजनीति विज्ञान NCERT Class 12th Political Science Chapter 1 के NCERT Question Ans लेकर आए हैं जो आपके आने वाले RBSE CBSE Main Exam में अत्यधिक सहायक होंगे । इस टॉपिक में शीतयुद्ध का दौर (Cold War Era) के महत्वपूर्ण प्रश्न-उत्तर हैं इन Important NCERT Notes को अधिक से अधिक शेयर करें ।

शीतयुद्ध का दौर
शीतयुद्ध का दौर

NCERT Class 12th Political Science  – शीतयुद्ध का दौर अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न 

1. मित्र राष्ट्रों में कौन-कौन से देश शामिल थे? 

उत्तर :- अमेरिका, सोवियत संघ, ब्रिटेन, फ्रांस

2. धुरी राष्ट्रों में कौन-कौन से देश शामिल थे?

उत्तर :- जर्मनी, जापान व इटली

3. दूसरा विश्व युद्ध कब लड़ा गया था?

उत्तर :- 1939 से 1945 तक

4. किस सोवियत राष्ट्रपति ने क्यूबा में अमेरिका के खिलाफ परमाणु मिसाइल तैनात की थी?

 उत्तर :- निकिताख्रुश्चेव

5. शीत युद्ध के दौरान कौन से दो गुट बने थे?

उत्तर :- पूंजीवादी गुट (संयुक्त राज्य अमेरिका के नेतृत्व में) तथा साम्यवादी गुट (सोवियत संघ के नेतृत्व में)

6. अपरोध का क्या अर्थ है।

 उत्तर :- रोक या संतुलन अर्थात युद्धों को रोकना।

7. गुटनिरपेक्ष आंदोलन के कर्णधार कौन कौन थे?

उत्तर :- पंडित जवाहरलाल नेहरू (भारत), गमाल अब्दुल नसीर (मिश्र), जोसेफ ब्रॉज टीटो (युगोस्लाविया)। 

8.गुटनिरपेक्ष आंदोलन की नींव किस सम्मेलन में स्थापित हुई? 

उत्तर :- बांडुंग सम्मेलन (इंडोनेशिया) 1955 में।

9.प्रथम गुटनिरपेक्ष शिखर सम्मेलन में कितने देशों ने भाग लिया?

उत्तर :- 25 देशों ने [नोट- यह सम्मेलन युगोस्लाविया की राजधानी बेलग्रेड में 1961 में आयोजित किया गया था।]

10.पृथकतावाद का क्या अर्थ है? 

उत्तर :- किसी राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय मामलों से अपने आप को पूरी तरह से अलग कर रखना। 

नोट- 1787 से 1914 तक अमेरिकी विदेशी नीति पृथकतावाद पर आधारित थी। 

11.तटस्थता का अर्थ स्पष्ट कीजिए। 

उत्तर:- युद्धों से अपने आप को तटस्थ रखना 

12.किन दो आधारों पर भारतीय गुटनिरपेक्ष नीति की आलोचना की जाती है?

 उत्तर :- सिद्धांतविहीन और अव्यवहारिक।

13. शीत युद्ध से क्या अभिप्राय है?

 उत्तर :- पूंजीवाद तथा साम्यवाद के बीच वैचारिक द्वंद्व शीत युद्ध के नाम से जाना जाता है।

14. पंचशील सिद्धांतों के जन्मदाता के रूप में किसे जाना जाता है?

उत्तर :- पंडित जवाहरलाल नेहरू।

15. सीटो सैन्य संगठन के प्रमुख सदस्य देशों के नाम लिखिए। 

उत्तर :- संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस, ग्रेट ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, फिलीपींस, थाईलैंड, पाकिस्तान।

16. सेंटो (बगदाद पैक्ट) के प्रमुख सदस्य देशों के नाम लिखिए। 

उत्तर :- तुर्की, इराक, ग्रेट ब्रिटेन, पाकिस्तान, ईरान

NCERT Class 12th Political Science – शीतयुद्ध का दौर लघुत्तरात्मक प्रश्न :

1. महाशक्तियों के छोटे देशों के साथ सैन्य गठबंधन के दो कारण लिखिए।

उत्तर- 

  1. छोटे देशों के महत्वपूर्ण संसाधनों जैसे तेल और खनिज पर अपना नियंत्रण स्थापित करना
  2. छोटे देशों में सैनिक अड्डे स्थापित करना। किन्ही 

2. दो पूंजीवादी सैन्य संगठनों के नाम लिखिए।

उत्तर- नाटो नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (उत्तर अटलांटिक संधि संगठन)

सीटो-साउथ ईस्ट एशियन ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (दक्षिण पूर्वी एशियाई संधि संगठन) 

3.तीसरी दुनिया के नाम से किसे जाना जाता है?

उत्तर:- गुटनिरपेक्ष आंदोलन में शामिल देशों को तीसरी दुनिया के नाम से जाना जाता है।

4.सीमित परमाणु परीक्षण संधि (एलटीबीटी) पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए ?

उत्तर :वायुमंडल, बाहरी अंतरिक्ष तथा पानी के अंदर परमाणु हथियारों के परीक्षण पर प्रतिबंध लगाने वाली संधि को सीमित परमाणु परीक्षण संधि (एलटीबीटी) कहा जाता है। इस संधि पर अमेरिका, ब्रिटेन, सोवियत संघ ने मास्को में 5 अगस्त 1963 को हस्ताक्षर किए तथा यह संधि 10 अक्टूबर 1963 को प्रभावी

5.CTBT क्या है?

उत्तर- व्यापक परमाणु परिक्षण प्रतिबंध संधि (Comprehensive Nuclear Test-Ban Trent) परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध लगाने के लिए यह संधि 1996 में अस्तित्व में आई थी। भारत ने अभी तक इस संधि पर हस्ताक्षर नहीं किए है। 

6.गुटनिरपेक्ष राष्ट्रों का अंतिम शिखर सम्मेलन कब तथा कहां आयोजित किया गया?

 उत्तर- गुटनिरपेक्ष राष्ट्रों का अंतिम शिखर सम्मेलन 2019 में बाकू (अज़रबैजान) में आयोजित किया गया।

7.’टुवार्ड्स अ न्यू ट्रेड पॉलिसी फॉर डेवलपमेंट’ रिपोर्ट में किन दो बातों पर बल दिया गया? 

उत्तर- 1. अल्प विकसित देशों को अपने उन प्राकृतिक संसाधनों पर नियंत्रण प्राप्त होगा जिनका दोहन पश्चिम के विकसित देश करते हैं। अल्प विकसित देशों की पहुंच पश्चिमी देशों के बाजार तक होगी।

8.सामरिक अस्त्र परिसीमन वार्ता ( साल्ट-I) पर कब तथा किन-किन नेताओं ने हस्ताक्षर किए?

उत्तर-  सामरिक अस्त्र परिसीमन वार्ता पर सोवियत संघ के नेता लियोनेड ब्रेझनेव तथा अमेरिका के राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने मास्को में 26 मई 1972 को हस्ताक्षर किए।

9.सामरिक अस्त्र परिसीमन वार्ता ( साल्ट-II) पर कब किया था किन किन नेताओं ने हस्ताक्षर किए? 

उत्तर- सामरिक अस्त्र परिसीमन वार्ता पर 18 जून 1972 में अमेरिकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर तथा सोवियत संघ के नेता लियोनेड ब्रेझनेव ने हस्ताक्षर किए। 

10.सामरिक अस्त्र न्यूनीकरण संधि (स्टार्ट-I) पर कब तथा किन किन नेताओं ने हस्ताक्षर किए? 

उत्तर- सामरिक अस्त्र न्यूनीकरण संधि पर अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश (सीनियर) तथा सोवियत संघ के राष्ट्रपति मिखाईल गोर्बाचेव ने 31 जुलाई 1991 को हस्ताक्षर किए।

11.सामरिक अस्त्र न्यूनीकरण संधि (स्टार्ट-II) पर कब तथा किन किन नेताओं ने हस्ताक्षर किए?

उत्तर- सामरिक अस्त्र न्यूनीकरण संधि पर अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश सीनियर तथा सोवियत राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन ने मास्को में 3 जनवरी 1993 को हस्ताक्षर किए। 

12.मार्शल योजना से आप क्या समझते है?

उत्तर- यह योजना तत्कालीन अमेरिकी विदेशी मंत्री जॉर्ज मार्शल के नाम से जानी जाती है। द्वितीय विश्व युद्ध से लड़खड़ाती यूरोपीय अर्थव्यवस्था को पुनः पटरी पर लाने के लिए अमेरिका ने पश्चिमी यूरोप के देशों को अरबों डॉलर सहायता राशि प्रदान की। यह योजना 1948 में प्रारम्भ हुई।

13.ट्रूमैन सिद्धान्त क्या था?

उत्तर-  अमेरिकी राष्ट्रपति हैरी एस ट्रूमेन द्वारा प्रतिपादित यह सिद्धान्त यूरोप में साम्यवाद को रोकने के लिए राजनीतिक, सैनिक व आर्थिक सहयोग प्रदान करने की नीति थी।

NCERT Class 12th Political Science – शीतयुद्ध का दौर  प्रश्न :

1.नई अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक व्यवस्था के प्रमुख उद्देश्य लिखिए?

उत्तर- नई अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के उद्देश्य निम्नलिखित है

1. विकासशील देशों को न्यूनतम ब्याज शर्तों पर ऋण दिलाए जाये और उनके पुनर्भुगतान की शर्त भी अत्यधिक लचीली रखी जाएँ।

2. बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के संचालन के संबंध में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आचार संहिता लागू की जाए।

3. विदेशी स्त्रोतों से वित्तीय सहायता के अतिरिक्त नवीन प्रौद्योगिकी भी उपलब्ध हो।

4. विश्व की अर्थव्यवस्था की अन्त: निर्भरता का अधिक कुशलताएवं न्यायपूर्ण प्रबंधन हो 

2.नाटो पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए। 

पूंजीवादी खेमें के नेतृत्वकर्ता अमेरिका के द्वारा अप्रैल 1949 में उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) की स्थापना की गई थी जिसमें 12 सदस्य देश थे। नाटो की स्थापना का उद्देश्य साम्यवादी खतरे / आक्रमण से पूंजीवादी देशों को बचाना था। प्रारंभ में इसकी कुल सदस्य संख्या 12 थी लेकिन वर्तमान समय में इसकी सदस्य संख्या 30 है। नाटो एक ऐसा सैन्य संगठन है जो शीत युद्ध की समाप्ति के बाद भी अस्तित्व में है।

3.गुटनिरपेक्ष आंदोलन के प्रमुख सिद्धांतों का उल्लेख कीजिए।

उत्तर- द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात उत्पन्न हुए शीत युद्ध से पृथक एशिया व अफ्रीका के नवीन स्वतंत्र राष्ट्रों ने गुटनिरपेक्ष आंदोलन को प्रारंभ किया। इसके प्रमुख सिद्धांत निम्नलिखित हैं:

  • साम्राज्यवाद का विरोध
  • उपनिवेशवाद का विरोध
  • नस्लभेद का विरोध
  • सैन्य संगठनों में शामिल ना होना
  • अफ्रीकी एशियाई देशों की एकता को बढ़ाना मांग करना
  • नवीन अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की
  • शस्त्रीकरण की होड़ को रोकना
  • शीत युद्ध से उत्पन्न खतरों को रोकना

4.परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर टिप्पणी लिखिए। 

उत्तर- यह संधि केवल परमाणु शक्ति संपन्न देशों को परमाणु हथियार रखने की अनुमति देती है तथा अन्य देशों को परमाणु हथियार प्राप्त करने से रोकती है। परमाणु अप्रसार संधि के उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए उन देशों को परमाणु शक्ति संपन्न देश माना गया जिन्होंने 1 जनवरी 1967 से पहले किसी परमाणु हथियार अथवा अन्य विस्फोटक परमाणु सामग्रियों का निर्माण कर लिया हो, इसके अंतर्गत अमेरिका, सोवियत संघ, ब्रिटेन, फ्रांस चीन को परमाणु शक्ति संपन्न देश माना गया। इस संधि पर 1 जुलाई 1968 को वाशिंगटन, लंदन और में हस्ताक्षर हुए। यह संधि 5 मार्च 1970 से प्रभावी हुए इस संधि को 1995 में अनियत काल के लिए बढ़ा दिया गया।

5.क्यूबा का मिसाइल संकट शीतयुद्ध का चरम बिंदु था क्यों? स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- क्यूबा उत्तरी अमेरिका में स्थित संयुक्त राज्य अमेरिका का एक पड़ोसी देश है जहां सोवियत समर्थित फिदेल कास्त्रो की साम्यवादी सरकार थी। 1961 में अमेरिका ने फिदेल कास्त्रो की सरकार को गिराने के लिए क्यूबा में ‘बे ऑफ पिक्स’ के माध्यम से सत्ता पलटने का प्रयास किया इसके विरोध में सोवियत संघ के राष्ट्रपति निकिता ख्रुश्चेव ने क्यूबा में अमेरिका के विरुद्ध 1962 में एक परमाणु मिसाइल तैनात की जिसकी जद में अमेरिका के न्यूयॉर्क सहित अनेक शहर थे। यह संकट तीसरे विश्व युद्ध को जन्म दे सकता था क्योंकि इस संकट के समय संयुक्त राज्य अमेरिका तथा सोवियत संघ जैसी विश्व की महाशक्ति एक दूसरे के विरुद्ध थी ।


राजनीति विज्ञान कक्षा 12 की टॉपिक वाइज टेस्ट सीरीज देने के लिए यहां पर क्लिक करें


एनसीईआरटी क्लास 12th बुक डाउनलोड करने के लिए यहां पर क्लिक करें

How to Make Notes

Leave a Reply

Your email address will not be published.