NCERT Solutions for Political Science-I Class 12th Chapter – 2  दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions

 विद्यार्थियों हम आपके लिए राजनीति विज्ञान NCERT Class 12th Political Science Chapter 2  दो ध्रुवीयता का अंत  NCERT Solutions के  Question Ans  लेकर आए हैं जो आपके आने वाले RBSE CBSE Main Exam  में अत्यधिक सहायक होंगे । Important NCERT Notes को अधिक से अधिक शेयर करें ।

दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions
दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions

दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions वस्तुनिष्ठ प्रश्न 

1.सोवियत संघ का गठन कितने गणराज्यों को मिलाकर किया गया था?

(a) 12 गणराज्य
(b) 13 गणराज्य
(c) 15 गणराज्य
(d) 16 गणराज्य

(c) 15 गणराज्य

2.”सोवियत प्रणाली में नौकरशाही का शिकंजा कसता चला गया। नौकरशाही से आपका क्या अभिप्राय है?
(a) नेता वर्ग
(b) जनता
(c) प्रशासनिक वर्ग
(d) सैन्य वर्ग

(c) प्रशासनिक वर्ग

3.15 गणराज्यों पर किस राज्य का प्रभुत्व था?
(a) पोलेण्ड

(b) चेकोस्लोवाकिया
(c) रूस
(d) बेलारूस

(c) रूस

4.सोवियत संघ ने किस देश में 1979 में हस्तक्षेप किया?
(a) अफगानिस्तान
(b) पाकिस्तान
(c) कजाकिस्तान
(d) तुर्कमेनिस्तान

(a) अफगानिस्तान

5.किस दशक के अंतिम वर्षों में सोवियत प्रणाली लड़खड़ा गई?
(a) 1970 के दशक में
(b) 1980 के दशक में
(c) 1990 के दशक में
(d) 1960 के दशक में

(b) 1980 के दशक में

6.’शान्तिपूर्ण सहअस्तित्व की नीति का संबंध किस सोवियत संघ राष्ट्रपति से है?
(a) लेनिन
(b) स्टालिन
(C) ख्रुश्चेव
(d) ब्रेझनेव

(C) ख्रुश्चेव

7.मिखाइल गोबचिव सोवियत संघ की कम्प्युनिस्ट पार्टी के महासचिव कब बने?
(a) 1970में
(b) 1980 में
(c) 1985 में
(d) 1990 में

(c) 1985 में

8.गोबचिव का तख्तापलटने में किसकी भूमिका अहम थी?
(a) ब्रेझनेव
(b) ख्रुश्चेव
(c) ब्लादिमीर पुतिन
(d) बोरिस येल्लासिन

(d) बोरिस येल्लासिन

9.- 1991 में वेल्ससिन के नेतृत्व में तीन बड़े राज्यों ने सोवियत संघ के नियंत्रण से स्वतंत्रता की घोषणा की”कौनसा विकल्प असंगत है?
(a) रूस
(b) बेलारूस
(c) यूक्रेन
(d) एस्टोनिया

(d) एस्टोनिया

10.हंगरी के जनआंदोलन को दबाने में सोवियत संघ के किस नेता की भूमिका थी?
(a) ख्रुश्चेव
(b) बेझनेव
(d) लेनिन
(d) स्टालिन

(a) ख्रुश्चेव

निम्नलिखित रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए – दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions

1.सोवियत राजनीतिक प्रणाली……… विचारधारा पर आधारित थी।

उत्तर:- साम्यवादी

2………….पार्टी का सोवियत राजनीतिक व्यवस्था पर दबदबा था।

उत्तर:-कम्युनिस्ट

3.….……ने 1985 में सोवियत संघ में सुधारों की शुरुआत की।

 उत्तर :- गोबचिव

4………. का गिरना शीत युद्ध के अंत का प्रतीक था।

बर्लिन की दीवार

5.फरवरी 1990 में गोबचिव ने सोवियत संसद ड्यूमा के चुनाव के लिए ………………राजनीति की शुरुआत की जिससे सोवियत कम्युनिस्ट पार्टी का एकाधिकार सोवियत सत्ता पर समाप्त हुआ।

उत्तर:-बहुदलीय

6.मार्च 1990………….. में स्वतंत्रता की घोषणा करने वाला प्रथम सोवियत गणराज्य बना।

उत्तर:- लिथुआनिया

7.सोवियत संघ के विघटन के बाद के समय में पूर्ववर्ती गणराज्यों के बीच एकमात्र परमाणु शक्ति संपन्न देश का दर्जा……………. को मिला।

उत्तर:- रूस

8.आश्चर्यजनक तौर पर… गणराज्यों ने अपने लिए स्वतंत्रता की मांग नहीं की वे सोवियत संघ के साथ ही रहना चाहते थे।

उत्तर:- मध्य एशियाई

9.सन 1991 के दिसंबर में………के नेतृत्व में सोवियत संघ के 3 बड़े गणराज्य रूस, यूक्रेन, बेलारूस ने सोवियत संघ की समाप्ति की घोषणा की।

उत्तर:- बोरिस येल्तसिन

10 लेनिन के पश्चात ने सोवियत संघ के राष्ट्रपति का पद संभाला।

उत्तर:- जोसेफ स्टालिन

11.1917 में रूस में बोल्शेविक क्रांति के पश्चात ने रूस की सत्ता संभाली।

उत्तर:- ब्लादीमीर लेनिन

अति लघुत्तरात्मक प्रश्न-दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions

1.चेकोस्लोवाकिया के जन आंदोलन को कुचलने में किस सोवियत नेता की भूमिका थी?

उत्तर :- ब्रेझनेव ने चेकोस्लोवाकिया के जन आंदोलन को कुचला यह आंदोलन पूंजीवाद से प्रेरित था।

2.राष्ट्रकुल (कॉमनवेल्थ) का संस्थापक सदस्य किसको बनाया गया?

उत्तर :- सोवियत संघ के विघटन के पश्चात पूर्वी यूरोपीय देशों का राष्ट्रकुल (कॉमनवेल्थ) बनाया गया लेकिन मध्य एशियाई साम्यवादी देशों को इसमें शामिल नहीं किया गया बाद में इन देशों को संस्थापक देश बनाया गया।

3.सोवियत संघ की सत्ता शक्ति के केंद्रीकरण के आधार पर पर किस प्रकार की थी।  

उत्तर:- सोवियत राज व्यवस्था केन्द्रिकृत थी जिसमें सारी शक्ति केन्द्रिय शासन (कम्युनिस्ट पार्टी) में निहित थी।

4.”ग्लासनोस्त’ का अर्थ स्पट कीजिए।  

उत्तर :- ‘ग्लासनोस्त’ रूसी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ खुलापन/पारदर्शिता है।

5.’पेरेस्त्रोइका’ का अर्थ स्पष्ट कीजिए।

उत्तर : ‘पेरेस्त्रोईका रूसी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ पुननिर्माण / पुनर्संरचना है। 

6.साम्यवाद के विघटन का श्रेय किस सोवियत नेता को जाता है?

उत्तर:- गोर्बाचेव 1985 में सोवियत कम्प्युनिस्ट पार्टी के महासचिव बने तथा सुधारवादी नीतियाँ प्रारम्भ की जिसके परिणामस्वरूप साम्यवाद का पतन हुआ।

7.’बाल्टिक देश’ के नाम से किन देशों को जाना जाता है?

 उत्तर :- बाल्टिक देश लेटविया, लिथुआनिया व एस्टोनिया है।

8.समाजवादी अर्थव्यवस्था से आप क्या समझते हैं?

उत्तर:- ऐसी अर्थव्यवस्था जिसमें उत्पादन व वितरण के संसाधनों पर सरकार का नियंत्रण रहता है यह पूंजीवाद व साम्यवाद के बीच का मार्ग है।

9.’दूसरी दुनिया’ किसे कहा जाता है? इसका नेतृत्व कौन-सा देश कर रहा था?

उत्तर :- दूसरी दुनिया साम्यवादी देशों को कहा जाता है, जिसका नेतृत्व सोवियत संघ कर रहा था।

10.’प्रथम दुनिया’ किसे कहा जाता है? इसका नेतृत्व कौन कर रहा है?

उत्तर :- ‘प्रथम दुनिया में पूँजीवादी देश शामिल हैं, जिसका नेतृत्व अमरीका कर रहा है।

11.-1917 की साम्यवादी क्रांति कहाँ तथा किसके नेतृत्व में की गई?

उत्तर:- 1917 की साम्यवादी क्रांति रूस तथा आस-पास के क्षेत्रों में हुई। यह क्रांति ब्लादिमीर लेनिन के नेतृत्व में की गई थी।

12.सोवियत संघ में कितने गणराज्य शामिल थे तथा इनमें मुख्य प्रभुत्व किस राज्य का था?

उत्तर :- सोवियत संघ में 15 गणराज्य शामिल थे तथा रूस का

13.प्रभुत्व सभी राज्यों पर था। ‘शॉक थेरेपी’ का क्या अर्थ है?

उत्तर :- ‘शॉक थेरेपी’ का अर्थ है ‘आघात पहुँचाकर उपचार करना। 

14.सोवियत संघ के विघटन के समय सोवियत संघ का राष्ट्रपति कौन था?

उत्तर:- सोवियत संघ के विघटन के समय मिखाइल गोर्बाचेव सोवियत संघ के राष्ट्रपति थे।

15.सोवियत संघ के किस राज्य में सबसे ज्यादा हिंदुस्तानी फिल्मों की धूम देखी जाती थी?

उत्तर:- सोवियत संघ के उज्बेकिस्तान में सबसे ज्यादा हिंदुस्तानी गानों व फिल्मों की धूम देखी जाती थी।

16.यूएसएसआर (USSR) का पूरा नाम लिखिए।

उत्तर:- यूनियन ऑफ सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक्स (Union Soviet socialist republics)

17.रूस के प्रथम राष्ट्रपति कौन थे? 

उत्तर :- सोवियत संघ के पतन के पश्चात उसका उत्तराधिकारी रूस बना तथा रूस के प्रथम राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन बने।

18.सोवियत संघ का विघटन कब हुआ?

उत्तर:- 25 दिसंबर 1991 को मिखाइल गोर्बाचेव द्वारा राष्ट्रपति पद से त्यागपत्र देते ही सोवियत संघ का पतन हो गया।

19-दो ध्रुवीयता का अंत कब हुआ

उत्तर:- 9 नवंबर 1989 को बर्लिन की दीवार का गिरना ही दो ध्रुवीयता का अंत  माना जाता हैं 

लघुत्तरात्मक प्रश्न –दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions

1.सोवियत संघ के पतन (विघटन ) के कोई दो कारण लिखिए।

उत्तर :- लोगों की राजनीतिक व आर्थिक आकांक्षाएँ पुरी नहीं हो पाई। कई वर्षों से सोवियत अर्थव्यवस्था गतिरूद्ध थी तथा उपभोक्ता वस्तुओं की कमी हो गई थी।

2.पेरेस्त्रोईका’ व ‘ग्लासनोस्त’ नीतियां कब व किस सोवियत राष्ट्रपति ने अपनाई?

उत्तर:- मिखाईल गोबचिव ने ‘पेरेस्त्रोइका’ और ‘ग्लासनोस्त’ नामक दो सुधार नीतियाँ 1985 में अपनाई थी।

3.सोवियत प्रणाली की कोई दो विशेषताएँ लिखिए।

  1. सोवियत प्रणाली पर नौकरशाही का शिकंजा कसता चला गया जो निरकुंश होती चली गई।
  2. लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता छीन ली गई थी।         

4.  द्विध्रुवीय व्यवस्था से आप क्या समझते हैं?

उत्तर:- द्वितीय विश्व युद्ध के बाद विश्व में दो महाशक्तियाँ उभर कर सामने आई संयुक्त राज्य अमरीका तथा सोवियत संघा पूंजीवाद का नेतृत्व संयुक्त राज्य अमरीका कर रहा था तथा साम्यवाद का सोवियत संघ इस व्यवस्था को द्विध्रुवीय व्यवस्था कहा जाता है।

5.सोवियत संघ के संदर्भ में ‘माफिया वर्ग’ से क्या तात्पर्य है? उत्तर:- माफिया वर्ग को जरायमपेश लोग भी कहते हैं। इन्होंने सोवियत संघ के विघटन के बाद अधिकतर आर्थिक गतिविधियों को अपने नियंत्रण में ले लिया। अतः धनी व निर्धन लोगों के बीच काफी गहरी खाई स्थापित हो गई।

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न- दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions

1.शॉक धेरेपी का अर्थ बताते हुए इसका दुष्परिणाम लिखिए।

उत्तर:- शॉक घेरेपी का अर्थ है ‘आघात पहुँचाकर उपचार करना’ सोवियत संघ के विघटन के बाद अमेरिकी ने शॉक थैरेपी की शुरूआत की। समाजवाद से पूँजीवाद के संक्रमणकालीन अवस्था को विश्व बैंक और अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा सहयोग कर संचालित करना, इस मॉडल को शॉक थेरेपी का नाम दिया गया ।दुष्परिणाम लोगों में असंतोष फैल गया। लोगों के पास न तो रोजगार था, न ही खाने को एक नया माफियावर्ग उभरकर आया, जिसने विषमता को बढ़ा दिया। 

2.सोवियत संघ के विघटन के लिए गोर्बाचेव किस प्रकार जिम्मेदार थे?

उत्तर :- 1985 में मिखाईल गोर्बाचेव सोवियत संघ के राष्ट्रपति बने तथा उन्होंने सुधारवादी नीतियां प्रारंभ की। उनकी इन नीतियों को पेरेस्ट्रोइका तथा ग्लासनोस्त के नाम से जाना जाता है। पेरेस्त्रोइका अर्थात पुनर्निर्माण करना। गोर्बाचोव सोवियत संघ की अर्थव्यवस्था को नए सिरे से निर्मित करना चाहते थे। ग्लास्नोस्ट का अर्थ होता है खुलापन या पारदर्शिता गोर्बाचेव सोवियत संघ की बंद दरवाजे की नीति को त्याग कर पूंजीवादी देशों के साथ व्यापार वाणिज्य को बढ़ावा देना चाहते थे।

गोबचिव की नीतिया सुधारवादी नीतियां होते हुए भी सोवियत संघ पतन का शिकार हुआ क्योंकि कुछ लोग इन सुधारों को बहुत तीव्र गति से चाहते थे जबकि गोबचेव के विपक्षी लोग इस बात का आरोप लगा रहे थे कि गोर्बाचेव अर्थव्यवस्था को बदलने में बहुत जल्दबाजी दिखा रहे हैं जो उचित नहीं है। यही कारण है कि सोवियत संघ के अनेक देश सोवियत संघ से स्वतंत्र होने की मांग करने लगे।

राजनीति विज्ञान कक्षा 12 की टॉपिक वाइज टेस्ट सीरीज देने के लिए यहां पर क्लिक करें

एनसीईआरटी क्लास 12th बुक डाउनलोड करने के लिए यहां पर क्लिक करें

इस अध्याय का की कक्षा लेने के लिए यहाँ क्लिक करें 

दो ध्रुवीयता का अंत पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर pdf

दो ध्रुवीयता का अंत MCQ

दो ध्रुवीयता का अंत wikipedia

दो ध्रुवीयता का अंत NCERT Solutions

Leave a Reply

Your email address will not be published.